Quick Links

दृष्टि एवं ध्येय


दृष्टि

खनन से लेकर बाजार तक सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के माध्यम से पर्यावरण एवं सामाजिक निरंतरता के विकास को पूरा करते हुए देश को उर्जा सुरक्षा मुहैया कराने के प्रति प्रतिबद्ध रहकर प्राथमिक उर्जा के क्षेत्र में एक विश्व खिलाड़ी के तौर पर उभरना ।

ध्येय

सुरक्षा, संरक्षण एवं गुणवत्ता के साथ पर्यावरण अनुकूल तरीके से सक्षमता पूर्वक एवं आर्थिक रूप से कोयला एवं कोयला उत्पादों का नियोजित मात्रा में उत्पादन एवं विपणन करना ।

उद्देश्य

  • कोयला खनन के कारोबार को कोयले की खानों के प्रबंधन और कोल इंडिया लिमिटेड के निर्देशों के तहत जारी रखने के लिए |
  • इस प्रयोजन के लिए खान, कोयला और अन्य उप-उत्पादों को लाभान्वित करने और सभी आवश्यक पौधों, खदानों, प्रतिष्ठानों , कार्यों आदि को संचालित और प्रबंधन स्थापित करने के लिए |
  • कोयला वाशियों / लाभकारी के किसी भी व्यवसाय को जारी रखने के लिए और उनके द्वारा उत्पन्न अन्य उप-उत्पादों मे निपटने के लिए |
  • कोयले और उप-उत्पादों को खोजने , प्राप्त करना, काम करना, उठाना, व्यापारिक बनाने, बेचने और सौदा करने के लिए |
  • कोलियरी और खान मालिक के रूप मे कार्य करना और कोयले के व्यापारियों और वाहक के रूप मे कार्य करना |
  • कोयले के निर्माण के तर्क संगत और समन्वित विकास को सुनिश्चित करने के लिए और क्षमता और विभिन्न परियोजनाओं का ईष्टतम उपयोग सुनिश्चित करने के लिए किसी भी कोयला खदानों का पुनर्गठन और पुन: निर्माण और इन खानों के प्रबंधन के प्रभारी प्रभार लेने के लिए |
  • कोयले के उत्पादन की योजना और व्यवस्थित करने के लिए , इसके लाभकारी और सरकार के आर्थिक नीति के अनुसार कोयले का उप-उत्पाद और आर्थिक नीति |
  • यदि कोई अपने स्वयं के आंतरिक संसाधनों से किसी भी ऋण के पुनर्भुगतान व्यय और के पुनर्भुगतानऔर उचित लाभांश का भुगतान करने के दायित्व के संबंध मे नई परियोजनाओं परियोजना व्यय मे वापस खींचने के लिए |
  • कोयला खनन और कोयला लाभकारी मे तकनीकी जानकारियाँ विकसित करने के लिए और कोयला जमाओं के शोषण और साथ ही कोयले के उपयोग से संबन्धित अनुसंधान और विकास का कार्य करना ताकि विदेशी तकनीकी सहयोग पर निर्भरता समाप्त हो जाये |
  • संसाधनों की उत्पादकता मे सुधार, अपव्यय को रोकने और निवेश की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त बाहरी संसाधनों को जुटाने के लिए आंतरिक संसाधनो की पीढ़ी को अनुकूल करना |
  • एस एंड टी और आर एंड डी योजनाओं के तहत कोयला अनुभाग मे अनुसंधान गतिविधियों को बढ़ावा देने, समन्वय और सुनिश्चित करने के लिए |
  • एनसीएल/सीएमपीडीआईएल के माध्यम सेकोयला खनन और संबन्धित परियोजनाओं के लिए पर्यावरण प्रबंधन योजना (ईमपी ),पर्यावरण प्रभाव आंकलन (ईआईए) और खान बंद योजना तैयार करने के लिए |
  • सुरक्षा,संरक्षण और गुणवत्ता के संबंध मे कोयले का उत्पादन करना |
  • सही समय पर सही कीमत पर सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले उत्पाद के साथ उपभोक्ताओं को संतुष्ट करने के लिए |