Quick Links

बीना परियोजना

पद

क्षेत्रीय महाप्रबंधक

ईमेल-आईडी

cgmbin.ncl@coalindia.in

फ़ोन नंबर

05446-276279


अवलोकन :
  • बीना परियोजना उतर प्रदेश की पहली और सबसे बडी कोयला खदान है।
  • बीना विस्तार बीना पुरानी खान का विस्तार खण्ड है।
  • बीना परियोजना का प्रतिबंध भारत सरकार द्वारा दिनांक 22/11/2006 को लक्षित कोयला उत्पादन 6.0 मि टन प्रतिवर्ष स्वीकति किया।
  • तीन कोल सिम पुरेवा टाप(8.0 मी.), पुरेवाबॅाटम (9-10 मी.) और तुर्रा सिम (18-20 मी.) है।
  • MoEF द्वारा ईएमपी 6-0 मि टन दिनांक 02/08/2006 और ईसी दिनांक 06/08/2014 स्वीकति दिया गया है।
  • परियोजना में 4.5 मि टन प्रतिवर्ष क्षमता वाली सीएचपी डिसेलिंग प्लॉट के साथ मौजूद है।कोयले की गुणवत्ता 34% +/- 1% ऐस को हटाकर तैयार कोल उत्पाद करता है।
  • बीना परियोजना देश के पावर हाउस कोटा, सुरतगढ, राजघाटऔर पानीपत से जुडा हुआ है।
  • बीना ककरी मिश्रण 10 मि टन प्रतिवर्ष (एनसीएल बोर्ड 2011 द्वारा मंजूर) है।

उत्पादन और डिस्पैच विवरण

पिछले 5 वर्षों के उत्पादन / लक्ष्य / उपलब्धि

वर्ष लक्ष्य(एमटी) उपलब्धि(एमटी) डिस्पैच(लक्ष्य)(एमटी) डिस्पैच(उपलब्धि)(एमटी)
2010-11 60,00,000 60,00,000 60,00,000 58,44,129
2011-12 60,00,000 60,00,000 60,00,000 60,92,746
2012-13 60,00,000 65,00,000 60,00,000 57,26,059
2013-14 60,00,000 60,00,000 60,00,000 68,69,925
2014-15 60,00,000 60,00,000 60,00,000 60,27,242
2015-16 75,00,000 70,09,000 64,88,000
2016-17 75,00,000 75,00,000 84,02,000
उपकरण :
उपकरण मेक मॉडल क्षमता नंबर
ड्रैगलाइन रामसों & रापिएर 24/96 24 Cum. 2
रुसी 10/70 (Surveyed off) 10 Cum. 2
इलेक्ट्रिक रोप शोवेल एच.ई.सी BE-195 10 Cum. 4
रुसी EKG-10 10 Cum. 1
ह्य्द्रौली शोवेल एच.ई.सी BE-195 10 Cum. 4
बी.ई.एम.एल BE-1000 5.5 Cum. 1
ह्य्द्रौली शोवेल बी.ई.एम.एल 85T (BH/HD 785) 85T 5
बी.ई.एम.एल BH-100 100T 14
कैत्तेर्पिल्लर CAT-777D 100T 18
कोमात्सु/एल&टी BH-100 100T 11
कुल 48
डोज़र बी.ई.एम.एल BD/D355 410HP 16
कोमात्सु D-475A 850HP 1
ड्रिल (इलेक्ट्रिक) रेवती REL-750 250mm 4
एटलस कोपको IDM70E 250mm 1
  SBSH(Non-Performing) 250mm 3
  SBSH(Non-Performing) 250mm 1
Total 9
टिप्पणियां : आस पास के सामुदायिक केन्द्रों पर पीने के पानी की आपूर्तितथा आर.ओ. की स्थिति -
  • 8 नं. आर.ओ. पानी की बोरिंगसम्पन्न।
  • 3 नं. आर.ओ. मशीन स्थापित।
  • 5 नं. आर.ओ. मशीन के लिए कमरे स्थापित।
सुरक्षा :
  • 2014 वार्षिक खान सुरक्षा सप्ताह के ग्रुप बी में प्रथम इनाम और अन्य 13 नं. में विभिन्न सुरक्षा इनाम प्राप्त हुआ है।
  • 2014-15 के इंटरएरिया प्राथमिक चिकित्सा में दितीय पुरस्कार द्वारा सम्मानित किया गया।
  • 2015-16 में कोई भी घाटक/गम्भीर दुर्घटना नहीं हुई।
Welfare & CSR Activities
Year of Activity Name of the Approved Activity Allocated / Sanctioned Amount (Rs.) Status of activity
2014-15 मानदेय भुगतान के आधार पर विभिन्न गांवों में सिलाई सेंटर का रनिंग & मेंटेनेंस 4.00 to be taken up
2014-15 100 युवाओं को LMV ड्राइविंग प्रशिक्षण । 6.00 to be taken up
2016-17 स्थानीय समुदाय की आवश्यकता के आधार पर विभिन्न परियोजना द्वारा कौशल विकास परियोजनाएं आयोजित की जानी हैं 10 Tender opening on 27.02.18
2016-17 कब्बडी टूर्नामेंट का आयोजन (पुरुष और महिला) 1.25 Completed
2015-16 मानदेय के आधार पर विभिन्न गांवों में सिलाई सेंटर का रनिंग व रखरखाव । 4.00 Ongoing
2016-17 लड़कियों के लिए ब्यूटी पार्लर प्रशिक्षण 1.00 To be taken up
2016-17 एनसीएल के परिचालन क्षेत्र के आसपास सिंगरौली (एम. पी.) और सोनभद्र (उ. प्र.) के गांवों में "मोबाइल क्लिनिक" 5.00 To be hired by NSC
2016-17 बीना परियोजना द्वारा सीएसआर योजना 2016-17 के अंतर्गत श्रावस्ती जिला (उ. प्र.) में 100nos. सोलर लाइट्स की स्थापना । 20.00 Ongoing
2017-18 बीना परियोजना के निकटवर्ती ग्रामों में ग्राम क्रीड़ाओं का संवर्धन 2.00 Completed 5-6 feb 18
2017-18 4 गांवों में एक मिशन "सभी के लिए स्वस्थ दृष्टि" के साथ नेत्र शिविरों का आयोजन 5.20 Ongoing, to be completed by March 18
2017-18 सभी के लिए स्वास्थ्य-सेवाओं तक पहुंच प्रदान करना(8 शिविर) 4.8 5 camps completed; Ongoing
2017-18 आसपास के गांवों में सौर एलईडी वाली स्ट्रीट लाइट 12.50 Sent for competent approval for nomination of agency UPNEDA
2017-18 ग्रामीण मेला का आयोजन 1 Completed
2017-18 बच्चों ने पर्यावरण पर करवाई प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता 0.2 Completed
2017-18 सरकारी विद्यालयों में स्कूल बैग के वितरण के माध्यम से शिक्षा का संवर्धन (जामशिला, बड़वानी, घर्सरी, चन्दुआर, कोहरौल) 1.95 Ongoing
2017-18 बच्चों को स्कूलों में खेल किटों के वितरण के माध्यम से खेलकूद का प्रोत्साहन 1.80 Ongoing
2017-18 फर्नीचर के माध्यम से सरकारी स्कूल के बुनियादी ढांचे का उन्नयन 7.00 Work order placed on GeM portal on 29.01.18
2017-18 सिलाई प्रशिक्षण केन्द्रों के माध्यम से स्थानीय ग्रामीणों को प्रशिक्षण देना 4.00 Ongoing
2017-18 आसपास के गांवों के स्कूली बच्चों को ऊनी वस्त्रों का वितरण 4.50 Completed
2017-18 प्राथमिक विद्यालय की चारदीवारी की दीवार के बड़ाई जाने और जामशिला पंचायत के आंगनवाड़ी, बीना परियोजना के दरवाजे और खिड़की के शटर का प्रतिस्थापन 10.00 LOA issued 10.02.18
2017-18 बीना परियोजना के तहत कृष्णशिला रेलवे जंक्शन के लिए वाटर कूलर के साथ आरओ प्लांट की स्थापना 9.00 To be taken up
2017-18 चन्दुआर, घर्सरी और बड़वानी में 5 सार्वजनिक शौचालयों का निर्माण 75.00 TCR completed
2017-18 बड़वानी & घर्सरी को जोड़ने वाले लौह सेतु का सुदृढ़ीकरण 8.5 LOA Issued
2017-18 5 जल एटीएम की स्थापना के माध्यम से सुरक्षित पीने के पानी तक पहुंच प्रदान करना । 39 TCR Under Process
2017-18 बीना परयोजना के समीपवर्ती क्षेत्रों में ३० हैंडपंप की स्थापना 23.7 LOA Issued
2017-18 घर्सरी गांव में 02 आर. ओ प्लांट की स्थापना एवं कमीशनिंग 10 TCR Under Process
2017-18 बीना परियोजना द्वारा सीएसआर योजना 2016-17 के अंतर्गत श्रावस्ती जिला (उ. प्र.) के विभिन्न ग्रामों में 30 हैंड पम्प की स्थापना । 18.93 Ongoing
2017-18 जामशिला बीना परियोजना में विभिन्न स्थानों पर 4 सुलभ शौचालय का निर्माण 20.00 LOA
2017-18 Gharsari गांव में विभिन्न स्थानों पर 4 सुलभ शौचालय का निर्माण 4.00 TCR Under Process
2017-18 Jamshila गांव में 01 आर. ओ प्लांट की स्थापना एवं कमीशनिंग 10.00 TCR Under Process
2017-18 बीना परियोजना में सीएसआर योजना के तहत यूपी के श्रावस्ती जिले में 20 टायलेट का निर्माण 30.00 To be retendered. Tendered 2 times but cancelled due to insufficient bids.
2017-18 Gharsari ग्राम पंचायत में कवर्ड ड्रेन के साथ सीसी रोड का 3 किमी (अलग से हिस्सों में) निर्माण । 150.00 TCR Under Process
2018-19 पानी के पानी की आपूर्ति व्यवस्था के साथ बीना इंटरमीडिएट कॉलेज में नए लड़कों और लड़कियों के शौचालय का निर्माण 835139.52 प्रक्रिया में
2018-19 बीना प्रोजेक्ट में पानी आपूर्ति व्यवस्था के साथ बीना प्राथमिक विद्यालय में नए लड़कों और लड़कियों के शौचालय का निर्माण। 611597.44 प्रक्रिया में
2018-19 सरकार में नए लड़कों और लड़कियों के शौचालय का निर्माण बीना प्रोजेक्ट में जल आपूर्ति व्यवस्था के साथ प्राथमिक विद्यालय, भैरवा। 589970.31 प्रक्रिया में
2018-19 स्कूल भवन, रसोई शेड और नए लड़कों और लड़कियों के शौचालय का निर्माण सरकार में नवीनीकरण। बीना प्रोजेक्ट के तहत प्राथमिक विद्यालय, घरसी। 1183675.64 प्रक्रिया में
2018-19 सीमा दीवार की ऊंचाई, रसोईघर शेड का नवीकरण और नए लड़कों और लड़कियों के शौचालय का निर्माण सरकार में जल आपूर्ति व्यवस्था के साथ। प्राथमिक स्कूल, कोहरौल। -- निविदा खोली जानी है

श्रमशक्ति :

अधिकारी मासिक वेतन कर्मचारी दैनिक वेतन कर्मचारी
124 245 899
उपलब्धियां :
  • 2014-15 में 6.635 मि.टन का उच्चतम उत्पादन।
  • 7.5 मि.टन की ईसीस्वीकति दिनांक 06/08/2014 प्राप्त हुआ।
  • हवा पानी सहमति संचालित करने के लिए 10/02/2015 को यूपीपीसीबी से स्वीकति दी गयी।
  • हवा पानी सहमति संचालित करने के लिए 10/03/2015 को एमपीसीबी से स्वीकति दी गयी।
  • ग्रीनटेकफाउन्डेशन नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2014 में पर्यावरण प्रबन्धन में गोल्डमेडल दिया गया।
  • बीना विस्तार समय से पूर्ण करने पर दिनांक 13/09/2014 को वर्ष 2013 14 में कोल इंडिया परियोजना कार्यान्वयन पुरस्कार द्वारा पुरस्कत किया गया।
  • निर्धारित समय दिनांक 22/11/2013 से पूर्व में खान परियोजना अनुसूची सम्पन्न दिनांक 31/03/2012 को हुआ।
अन्य टिप्पणियॉ:

कोल इंडिया के चालीसवें स्थापना दिवस पर सबसे अच्छी महिला डिलऑपरेटर में श्रीमती मुन्नी देवी और फुलमती देवी को 01 नवम्बर 2014 को कोलकत्ता में सम्मानित किया गया।

Contact Details:

विभाग नाम पद पद ईमेल
खनन श्री कुमुद मिसत्री परियोजना आधिकारी (खनन) मुख्य प्रबंधक kumod.mistry@coalindia.in
खनन श्री कृष्ण कुमार झा स्टाफ आधिकारी (खनन) मुख्य प्रबंधक kk.jha5810@coalindia.in
उत्त्खनन श्री गिरीश मुनी सिंह स्टाफ आधिकारी- उत्त्खनन मुख्य प्रबंधक gm.singh@coalindia.in
वि0 / यां0 श्री आर. के. सिंह स्टाफ आधिकारी- वि0 / यां0 मुख्य प्रबंधक rk.singh0816@coalindia.in
वित्त श्री एस.कंडास्वामी ए.एफ.एम वरिष्ठ प्रबंधक afmbina@coalindia.in
कार्मिक प्रदीप कुमार दुबे स्टाफ आधिकारी- कार्मिक वरिष्ठ प्रबंधक pk.dubey2984@coalindia.in
एम एम श्री बी. के. सिंह स्टाफ आधिकारी- एम एम वरिष्ठ प्रबंधक bk.singh@coalindia.in
सिविल श्री के. मनी स्टाफ आधिकारी - सिविल वरिष्ठ प्रबंधक k.mani4521@coalindia.in
वि.&वि. श्री श्रीनिवासन त्रिपाठी स्टाफ आधिकारी - वि.&वि. वरिष्ठ अधिकारी sn.t0920@coalindia.in
सेफ्टी श्री ए. एन. मालवीय क्षेत्रीय सुरक्षा आधिकारी वरिष्ठ प्रबंधक an.malviya@coalindia.in
बीना परियोजना में बड़े आकार के चमगादड़ का संरक्षण

आम तौर पर अकेला वन क्षेत्रों और गुफाओं में पाए जाते हैं, यदि बड़े पैमाने पर बड़े आकार के चमगादड़ संरक्षित रहते हैं तो अन्य स्थानों पर भी व्यवस्थित हो सकता है। यहां जीएम कार्यालय के पास बीना प्रोजेक्ट में तालाब का निपटारा करने और नर्सरी के उपयुक्त वातावरण बड़े आकार के चमगादड़ के लिए बनाया गया था और वे करीब 5000 वर्ग मीटर में अपनी कॉलोनी बनाते हैं। क्षेत्र। यहां बनाए गए संरक्षण विधियों बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण, बड़े आकार के जल निकाय के निर्माण और क्षेत्र में बहुत कम मानवीय हस्तक्षेप हैं।

जीएम के निर्देशों पर, बीना में एक बड़े आकार का तालाब का निर्माण किया गया था और इस तालाब में और उसके आसपास बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण किया गया था। मानव हस्तक्षेप से दूर लुप्तप्राय प्रजातियों में आने वाले बड़े आकार के स्तनपायी इस क्षेत्र में हजारों संख्या में बसे हुए हैं और उपयुक्त स्थितियों में यहां प्रजनन करते हैं। दिन के समय के दौरान वे पेड़ों पर लटका पाया जा सकता है और रात के दौरान वे भोजन (फलों, कीड़े और मच्छर आदि) की खोज में भटक रहे हैं। छोटे आकार के चमगादड़ (एक गौरैया का आकार) आमतौर पर हर जगह पाए जाते हैं। लेकिन इन बड़े आकार वाले स्तनपायी (जहां पंख 70 सेमी तक फैल जाते हैं) और लुप्तप्राय प्रजातियों में आते हैं शायद ही कभी मिलते हैं |

आमतौर पर चमगादड़ लंबे समय से स्तनधारियों को छोड़ रहे हैं और भूरे रंग के बड़े आकार के चमड़े के 30 साल के जीवन को छोड़ सकते हैं। जैसे ही वे कीड़े और मच्छरों खाते हैं वे पर्यावरण के दोस्त के रूप में जाने जाते हैं और वे पारिस्थितिकी तंत्र के विशेष प्रतिनिधि हैं। पिछले महीने, वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून की एक टीम ने बीना परियोजना में बैट कॉलोनी का भी दौरा किया। उन्होंने सुझाव दिया कि कुछ फल पौधे जैसे जामुन, पेरू, आम और चिकूटी को अपने भोजन के लिए अवसादन और नर्सरी के पास लगाया जाना चाहिए ताकि ये जीव यहां से पलायन न करें। टीम ने यह भी बताया कि ये चमगादड़ लुप्तप्राय प्रजातियों में आते हैं और संरक्षित होना चाहिए। बीना परियोजना भविष्य में इन प्राणियों के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है इसलिए यही चमगादड़ की कॉलोनी विकसित की गई है।